सन्नाटा

आज मेरा दिल मचल रहा है,सुनो शहर में आग लगा दो,और,आशिक़ जो बेजार हो चुके है उनको मेरे अस्सार सुना दो। ये, महफिलों में इतना…

Continue reading → सन्नाटा