तिरंगा

लिख पाऊं कुछ इसकी शान में इतनीमेरी औकात कहां,समेट ले चंद अल्फाजों में कलम में ऐसी बात कहां। नाम इसका सुनते ही खून मेरा खौल…

Continue reading → तिरंगा