उलझन

छोटी सी ज़िन्दगी में उलझने हज़ार ,सुलझाने जाएं तो आ जाता है भुखार |उलझन एक हो तो समझ भी आये ,हर कदम पर उलझन हो…

Continue reading → उलझन