तिरंगा

लिख पाऊं कुछ इसकी शान में इतनीमेरी औकात कहां,समेट ले चंद अल्फाजों में कलम में ऐसी बात कहां। नाम इसका सुनते ही खून मेरा खौल…

Continue reading → तिरंगा

वो

हमने उनको कहा किहमें तो आपसे इश्क हो गया खामोशी छायी है अब वहांबात कहां , MSG भेजना भी बंद हो गया कहा हमने उनसे…

Continue reading → वो